इंटरनेट क्या है? इसकी पूरी जानकारी (What is the Internet? In full details in hindi)

What is the Internet

इंटरनेट एक व्यापक नेटवर्क है जिसके दुआरा दुनिया भर के कंप्यूटर नेटवर्क  (computer networks) को कंपनियों, सरकारों, विश्वविद्यालयों और अन्य संगठनों द्वारा एक दूसरे से बात करने की सुविधा देता है। इंटरनेट केबल, कंप्यूटर, डेटा सेंटर, राउटर, सर्वर, रिपीटर, सैटेलाइट और वाईफाई टॉवर का एक नेटवर्क है जो डिजिटल जानकारी को दुनिया भर में शेयर करने की सुविधा देता है |

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट “नेटवर्कों के नेटवर्क”(network of networks)के रूप में जाना जाता है । 1970 के दशक में अमेरिका में इंटरनेट का उदय हुआ, लेकिन 1990 के दशक की शुरुआत तक आम जनता के लिए इसका इस्तेमाल करने के लिए खोल दिया। 2021 तक, लगभग 4.5 बिलियन लोग, या दुनिया की आधी से अधिक आबादी, इंटरनेट का इस्तेमाल कर रही है ।

1. इंटरनेट क्या है? (What is the Internet?)

What is the Internet full details in hindi – इंटरनेट एक विशाल नेटवर्क है जो पूरी दुनिया में कंप्यूटरो को जोड़ता है। इंटरनेट के माध्यम से, लोग इंटरनेट कनेक्शन के साथ कहीं से भी जानकारी साझा और संवाद कर सकते हैं।

2. इंटरनेट का आविष्कार किसने किया? (Who invented the Internet?)

इंटरनेट में विभिन्न व्यक्तियों और संगठनों द्वारा विकसित प्रौद्योगिकियां (technologies) हैं। महत्वपूर्ण आंकड़ों में रॉबर्ट डब्ल्यू टेलर शामिल हैं, जिन्होंने ARPANET (इंटरनेट का प्रारंभिक प्रोटोटाइप) और विंटन सेर्फ़ और रॉबर्ट के विकास का नेतृत्व किया, जिन्होंने ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल / इंटरनेट प्रोटोकॉल (टीसीपी / आईपी) प्रौद्योगिकियों का विकास किया।

3. इंटरनेट कैसे काम करता है?(How does the Internet work?)

इंटरनेट नेटवर्क की एक श्रृंखला के माध्यम से काम करता है जो टेलीफोन लाइनों के माध्यम से दुनिया भर के उपकरणों को जोड़ता है। उपयोगकर्ताओं को इंटरनेट ( Internet service providers)सेवा प्रदाताओं द्वारा इंटरनेट तक पहुंच प्रदान की जाती है। 21 वीं सदी में मोबाइल ब्रॉडबैंड और वाई-फाई के व्यापक उपयोग ने इस कनेक्शन को वायरलेस कर दिया गया है।

4. क्या इंटरनेट खतरनाक है?(Is the Internet dangerous?)

इंटरनेट के आगमन ने एक नए प्रकार के शोषण को अस्तित्व में लाया है, जैसे कि स्पैम ई-मेल और मैलवेयर, और हानिकारक सामाजिक व्यवहार, जैसे साइबरबुलिंग cyberbullying और डॉकिंग। कई कंपनियां उपयोगकर्ताओं से व्यापक जानकारी एकत्र करती हैं, जो की कुछ लोगों की निजता का हनन करती हैं।

5. डार्क वेब क्या है?(What is the Dark Web?)

डार्क वेब उन वेब साइटों की एक श्रृंखला को दर्शाता है जिन्हें एक्सेस करने के लिए विशेष डिक्रिप्शन और कॉन्फ़िगरेशन टूल की आवश्यकता होती है। यह आमतौर पर उन उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है, जिनके लिए सख्त गुमनामी की आवश्यकता होती है, जिसमें अवैध बिक्री जैसे, हथियारों और ड्रग्स, भारी सेंसरशिप (censorship, and whistleblowing) वाले देशों में राजनीतिक असंतोष शामिल हैं।

6. इंटरनेट को कौन नियंत्रित करता है?(Who controls the Internet?)

इंटरनेट सैद्धांतिक रूप से विकेंद्रीकृत (decentralized)है और इस प्रकार किसी एक इकाई द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता है, कई लोग तर्क देते हैं कि अमेज़ॅन, फेसबुक और Google जैसी तकनीक कंपनियां उन संगठनों की एक छोटी एकाग्रता का प्रतिनिधित्व करती हैं जिनका इंटरनेट पर सूचना और धन पर अभूतपूर्व प्रभाव है। कुछ देशों में, सेंसरशिप के माध्यम से इंटरनेट के कुछ हिस्सों को अवरुद्ध कर दिया जाता है।

Who-controls-the-Internet इंटरनेट क्या है?
Who controls the Internet इंटरनेट क्या है?

इंटरनेट एक क्षमता प्रदान करता है जो इतना शक्तिशाली और सामान्य है कि इसका उपयोग लगभग किसी भी उद्देश्य के लिए किया जा सकता है जो जानकारी पर निर्भर करता है, और यह प्रत्येक व्यक्ति द्वारा सुलभ है जो इसके नेटवर्क में से एक से जुड़ता है। यह सोशल मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मेल (ई-मेल), “चैट रूम,” समाचार समूह, और ऑडियो और वीडियो प्रसारण के माध्यम से मानव संचार का समर्थन करता है और लोगों को कई अलग-अलग स्थानों पर सहयोगी रूप से काम करने की अनुमति देता है। यह वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) सहित कई अनुप्रयोगों द्वारा डिजिटल जानकारी को लोगों तक पहुचाने का काम करता है।

7. इंटरनेट कितना बड़ा है? (How big is the internet?)

इंटरनेट सभी लोगो तक पहुचाने के लिये इसमें कुछ वायरिंग लगती है। द्वीपों और महाद्वीपों को जोड़ने के लिए समुद्र के फर्श के साथ सैकड़ों-हजारों मील की दूरी पर केबल और क्रॉस-कंट्रीज़ बिछाई जाती हैं। लगभग 300 पनडुब्बी केबल, गहरे समुद्र में केवल एक बगीचे की नली जितनी मोटी हैं,जोकि आधुनिक इंटरनेट को रेखांकित करती हैं। ज्यादातर केबल पतले फाइबर ऑप्टिक्स के बंडल होते हैं जो प्रकाश की गति से डेटा ले जाते हैं। यह केबल 80-मील से लेकर एंग्लेसेई कनेक्शन से 12,000-मील एशिया-अमेरिका गेटवे तक है, जो कैलिफोर्निया को सिंगापुर, हांगकांग और एशिया के अन्य स्थानों से जोड़ता है। 2008 में, मिस्र के अलेक्जेंड्रिया बंदरगाह के पास दो समुद्री केबल के क्षतिग्रस्त होने से अफ्रीका, भारत, पाकिस्तान और मध्य पूर्व में लाखों इंटरनेट उपयोगकर्ता प्रभावित हुए।

8. इंटरनेट कितनी ऊर्जा का उपयोग करता है?(How much energy does the internet use?)

चीनी दूरसंचार कंपनी हुआवेई का अनुमान है कि सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) उद्योग दुनिया की 20% बिजली का उपयोग कर सकता है और 2025 तक दुनिया के कार्बन उत्सर्जन का 5% से अधिक कर सकता है।

2016 में, अमेरिकी सरकार की लॉरेंस बर्कले नेशनल लेबोरेटरी (Lawrence Berkeley National Laboratory) ने अनुमान लगाया कि अमेरिकी डेटा केंद्र – सुविधाएं जहां कंप्यूटर स्टोर, प्रोसेस और शेयर जानकारी – को 2022 में 73bn kWh ऊर्जा की आवश्यकता हो सकती है। यह 10 परमाणु ऊर्जा स्टेशनों का उत्पादन के बराबर है।

9. पूरी दुनिया ऑनलाइन कैसे होगी? (What is the world wide web?)

गरीब, ग्रामीण क्षेत्रों में किफायती इंटरनेट प्राप्त करना एक बड़ी चुनौती है। बाजार के विस्तार पर नजर रखने के साथ, अमेरिकी टेक फर्मों को इनरॉड बनाने की उम्मीद है। Google की मूल कंपनी अल्फाबेट ने सौर ऊर्जा से चलने वाले ड्रोन के लिए योजना बनाई और अब वह अंतरिक्ष से इंटरनेट प्रदान करने के लिए उच्च ऊंचाई वाले गुब्बारों पर ध्यान केंद्रित कर रही है। एलोन मस्क की स्पेसएक्स और वनवेब नामक एक कंपनी की माइक्रोस्लाइट्स के माध्यम से दुनिया में हर किसी के लिए इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध कराने की योजना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *